देश में ऑटो सेक्टर की नामी कंपनी टाटा मोटर्स ने आज दिसंबर तिमाही के लेखा विवरण जारी किये है,जिसके अनुसार कम्पनी 26,961 करोड़ रुपये का भारी भरकम और सबसे बड़ा घाटा हुआ है। 2017 की दिसंबर तिमाही में 1214.60 करोड़ रूपये का मुनाफा हुआ था के बाद से कम्पनी को यह लगातार तीसरा तिमाही घाटा है | कम्पनी का प्रदर्शन विशेष रूप से चीन और इन्वेंट्री करेक्शन में चुनौतीपूर्ण बाजार की स्थितियों से प्रभावित हुआ है।

  • कम्पनी के अनुसार सहायक कंपनी जगुआर की संपत्ति को ठीक करने के लिए 27838 करोड़ रूपये (3.1 बिलियन पाउंड ) एक मुश्त (गेर–नकद} खर्च दिखाया है |
  • चीन में बिक्री घटने,टेक्नोलॉजी से जुड़ी कठिनाई,कर्ज महंगा होने,ब्रेग्जिट की अनिश्चितताओं की वजह से नुकसान हुआ है।
  • जगुआर में पिछले वर्ष 2018 के 8 महीनों में जगुआर लैंड रोवर की बिक्री में लगातार गिरावट दर्ज की गई थी।
  • जगुआर लैंड रोवर के खराब प्रदर्शन की वजह से कम्पनी को इतना बड़ा नुकसान हुआ है क्योंकि कम्पनी आय मे जगुआर लैंड रोवर की 72% हिस्सेदारी है।
  • कंपनी का नेट रेवेन्यू 5% बढ़कर 77,001 करोड़ रुपए रहा है |
  • ऑपरेटिंग प्रॉफिट 20% घटकर 6,381 करोड़ रुपए रह गया है ।  
  • एकीकृत आधार पर कर पश्चात् कंपनी का लाभ 617.62 करोड़ रुपये रहा जो पिछले साल की तिमाही में 211.59 करोड़ रुपये था।
  • एकीकृत आधार पर टाटा मोटर्स की आय 16,208 करोड़ रुपये (1.5%) बढ़ गई |
  • जगुआर का राजस्व 1 फीसद कम होकर 6.2 पौंड रह गया।

कम्पनी को भारी घाटा 27838 करोड़ रूपये (3.1 बिलियन पाउंड ) एक मुश्त (गेर–नकद) खर्च के कारण है | वर्तमान ऑटो सेक्टर में मंदी का माहौल बना हुआ है | शेयर को गिरावट पर 1 से 2 वर्ष के नजरिये से खरीदा जा सकता है |

Leave a Comment