वर्तमान में लोगों की आमदनी बढ़ने के साथ-साथ जीवनशैली और खर्च करने की आदत में भी जबरदस्त बदलाव आया है। उत्पादों के लुभावने विज्ञापन और धुआधार मार्केटिंग में प्रत्येक उत्पाद की ब्राण्ड यह दावा करती है कि वो ही बाजार में सर्वश्रेष्ठ है। इसी कारण आम आदमी खर्च करने की इच्छा पर नियंत्रण नही रख पाता है और बगेर जरूरत के भी खरीदारी कर लेता है | अनाप शनाप खर्च करने की आदत वर्तमान के साथ-साथ  भविष्य में भी नुक्सानदायक हो सकती है,क्योंकि खर्च करने की बढ़ती आदत के चलते बचत और निवेश करने की आदत में कमी आ रही है। अत: अपने और परिवार के भविष्य की जरुरतो को पूरा करने और खुशियों के लिए हर हालत में अनावश्यक  खर्च करने की इच्छा पर नियंत्रण रखते हुये बचत करना बहुत जरूरी हो जाता है।

 

आपके खर्च करने की इच्छा को काबू करने और खर्च नियंत्रित करने हेतु कुछ सुझाव :-

 

  • बजट बनाएं – बजट बनाना आपको झंझट भरा और बोरियत वाला लगने के कारण नापसंद हो सकता है,लेकिन यह सटीक फाइनेंशियल प्लानिंग के लिए अति-आवश्यक है तथा अनावश्यक खर्चो को नियंत्रित करने में भी बहुत उपयोगी है |
  • खर्च का रिकार्ड – आप जो भी खर्च करते है उन सबका रिकार्ड रखना भूले नही | इससे आप यह जान सकेंगे कि आपका पैसा कहाँ जा रहा है और किसमें फिज़ूल खर्च हो रहा है।
  • जरुरतो और खर्चो की लिस्ट बनाना – प्रत्येक वर्तमान और भावी जरूरत,खर्चो की लिस्ट बनाये ताकि उसी अनुसार बजट प्लानिंग की जा सके |
  • उत्साह में अनावश्यक खरीदारी से बचें – भावनाओ में बहकर अति उत्साह में अनावश्यक खरीदारी के खर्च पर पूरा नियन्त्रण रखे |
  • क्रेडिट/डेबिट कार्ड – क्रेडिट कार्ड का सावधानीपूर्वक उपयोग नही करने से आप कर्ज के साथ-साथ बकाया पर वसूल किये जाने वाले ब्याज-खर्चो और पेनल्टी के जाल में फ़स सकते है | ईएमआई पर खरीद के माया जाल से दूर रहे |
  • टाइम-पास के लिए शॉपिंग – आजकल बोरियत दूर करने या टाइम-पास के लिए दुकानों और मॉल्स में जाना, ऑनलाइन शोपिंग करना एक फेशन और स्टेट्स बनता जा रहा है, अत: कभी भी बोरियत दूर करने या टाइम-पास करने के लिए शोपिंग/ऑनलाइन शोपिंग नही करे या दुकानों और मॉल्स में नही जाये | अधिकांशत जरूरत नही होने पर भी इसलिए शोपिंग कर लेते है क्योंकि  चीजें ऑफर के तहत सेल में सस्ती मिल होती रही हैं। लेकिन इससे आपका खर्च बेतहाशा बढ़ सकता है। इससे बचने के लिए अपने आप को व्यस्त रखें।

 

 

समझदारी से खर्च करते हुये बचत की आदत अपनाकर ही फालतू खर्च करने की लाईलाज बीमारी से बचा जा सकता है | बचत से आप और आपका परिवार खुशहाल हो सकता है साथ भविष्य की जरुरतो के लिए कर्ज लेने या किसी के आगे हाथ फेलाने से बचा जा सकता है | बचत ही परिवार की वर्तमान और भविष्य की खुशियों का आधार है |

 

Leave a Comment